मेरी और मेरी सहेली की चुत की कामुकता-1

(Meri Aur Meri Saheli Ki Choot Ki Kamukta- Part 1)

2017-11-04

हाय दोस्तो, मैं निकिता फिर से एक बार आप सबको मेरी धांसू चुदाई की मेरी इंडियन चुदाई कहानी सुनाने आयी हूँ.
इससे पहले की मेरी पूरी कहानी यह है-

पीटर की छुट्टियाँ चालू हुई तो वो चार महीनों के लिए अपने देश चला गया. उसके जाने से पहले, पूरी रात हमने बेड पे हुड़दंग मचाया. रिया तो मेरी उम्मीद से भी ज्यादा चुदक्कड़ निकली, जब देखो तो उसके सर पे सेक्स का भूत चढ़ा रहता.
खैर, मुझे अब उसके साथ मजा आ रहा था और पूरे शौक से हम दोनों अपनी जिंदगी के मजे ले रही थी.

ऐसे ही एक दिन हमने कुछ दिनों के लिए गोवा जाने का प्लान बनाया. जैसे प्लान बना, रिया की चुत हमेशा गीली ही रहने लगी. मैं समझ गयी कि ये पठ्ठी गोवा में भी कुछ न कुछ गुल जरूर खिलाएगी.

और एक दिन हम फ्लाइट पकड़कर गोवा पहुँच गयी. गोवा के तो क्या कहने… शायद ऊपर वाले ने गोवा को बनाते हुए शराब और सेक्स के रस में घोलकर इस जगह को बनाया होगा. अपने होटल जाते हुए टैक्सी से हम ये शहर देख रहे थे, ज्यादातर कपल्स ही दिख रहे थे. लड़कियाँ बेहद कम कपड़ों में घूम रही थी और हर मोड़ पर शराब की कोई ना कोई सुविधा थी ही!

एयरपोर्ट से होटल पहुंचते हमें शाम के ४ बज गए. रिया ने हमारा कमरा एक पांच सितारा होटल में बुक किया था.
रूम पहुँचते ही वेटर फेमस गोवा वाइन दे गया. वाइन के घूंट पीते पीते हम दोनों एक साथ शावर के नीचे खड़ी हो गयी. गोवा की हवा और वाइन का सुरूर ऐसा छाया कि शावर के नीचे हम दोनों मतवाली हो गयी.
काफी देर एक दूसरी को चूमना-चूसना होने के बाद हम दोनों बाहर आकर तैयार होने लगी.

रिया ने टू पीस बिकिनी के ऊपर एक बेहद सेक्सी छोटा टॉप और हॉट पैंट पहनी और मैंने स्पेगेटी टॉप के नीचे मिनी स्कर्ट पहन लिया. मेकअप वगैरा होने के बाद हमने एक दूसरी को निहारा तो अनजाने में ही एक दूसरी से हम जल उठी.
मेरा निचला होंठ अपने दांतों से काटते हुए रिया बोली- साली, आज तो तू किसी का खून जरूर करेगी.
बदले में मैंने उसके निप्पल खींच कर कहा- तू भी पूरी की पूरी बाजारू लग रही है. पता नहीं कितनों को काट खायेगी तू आज!
और हम जोरों से है पड़ी.

फिर मैंने उसकी गाल पे पप्पी करते हुए कहा- चल, आग लगाती हैं आज इस गोवा में!
और हम होटल से बाहर आयी.
हम जहाँ जा रहे थे तो पता नहीं कितने मनचले हमें घूर घूर के देख रहे थे. कई शादीशुदा मर्द भी अपनी गन्दी नजरों से हमें देखने से बाज नहीं आये.

रिया ने तो पहले से सारा प्लान बना लिया था. हमने किराये से एक जीप ली और कुछ ही देर में हम बागा बीच पहुँच गए.

अचानक रिया एक ठेले पे रुक गयी और उसने वहाँ से कुछ ख़रीदा. मेरे पास आकर उसने मेरे हाथ में एक गोल्डन नोज रिंग पकड़ाई और कहा- चल इसे अपने नाक में पहन. दोनों पूरी रण्डियाँ दिखेंगी हम.
और उसने सच ही कहा था, उस एक नोज रिंग ने हमारा तो रूप ही पलट दिया. हम और ज्यादा सेक्सी दिखने लगी.

हम वहाँ से सीधा टीटो नाम के पब में घुस गयी. मैंने आगे बढ़ कर पैसे देकर टेबल बुक किया. ऐसे पैकेज में डिस्को, दारु और खाना शामिल रहता है. और जैसे ही हमने अंदर कदम रखा तो ऐसे लगा कि हम सीधा जन्नत में आ गए हैं. कान फाडू संगीत कुछ भी और सोचने की इजाजत नहीं दे रहा था. लड़के लड़कियाँ नाच रहे थे. पी रहे थे. जिनके साथ लड़कियाँ नहीं थी वो ललचाई नजर से और लड़कियों को देख रहे थे.

हम दोनों जैसे ही अंदर गयी तो कसम से आधे से ज्यादा लड़कों की मुंडियाँ हमारी तरफ मुड़ गयी. हाथ में गिलास लेकर ही हम दोनों डांस फ्लोर पे अपने जलवे दिखाने लगी. रिया काफी अच्छा डांस करती है, उसका बदन काफी लचीला है.

थोड़ी देर के बाद मैं वापिस टेबल पे आ बैठी और रिया को देखती रही. लड़के लोग आँखें फाड़ फाड़ कर रिया को देखते हुए अपने लंड मसल रहे थे. उसे पाने की तमन्ना कर रहे थे. कुछ की नजर मेरे ऊपर भी थी. कुछ ने तो मुझे इशारे भी किये थे. मगर सबको अनदेखा करके मैं अपने आप में मस्त थी.

थोड़ी देर बाद रिया आई, उसने जोर से कहा- लव यू निकी डार्लिंग! तुम्हारी वजह से मैं तो जन्नत में आ गयी यार!
मैंने भी उसे ख़ुशी ख़ुशी गले लगा लिया.

फिर दारु का दौर चला. कुछ देर पीने के बाद मैंने रिया से पूछा- बेली डांस आता है?
उसने कहा- हाँ, क्यों?
उसका हाथ पकड़कर मैंने कहा- फिर क्या यहाँ हम झक मारने आयी हैं? चल लड़कों की वाट लगाती हैं.

और हम जोश में बेली डांस करते करते सबका ध्यान हमारी तरफ खींचने लगी. हमारा इस कदर का सेक्सी डांस देख कर लड़के लोग हमें घेरने लगे. हमारी इर्दगिर्द भीड़ जुटने लगी. जैसे भीड़ हुई तब हर किसी ने चान्स लेना चालू किया. पता नहीं हमारे बदन पे कितने हाथ रेंग रहे थे, कौन कहाँ हाथ लगा रहा था ये भी ढूंढना मुश्किल था.

तभी किसी ने मेरे कंधे पर हाथ रखा. मैंने मुड़ कर देखा कि एक हैंडसम सा लड़का मुझे इशारा कर रहा था.
मैंने उसकी तरफ देखा तो वो नजदीक आकर कुछ बोला मगर म्यूजिक इतना तेज था कि मैं कुछ सुन नहीं पाई. फिर उसने अपना मुँह मेरे कान के पास किया और थोड़ा जोर से कहा- एक रात का कितना लोगी तुम दोनों?

मेरा पूरा जोश झाग की तरह नीचे बैठ गया.

मैंने रिया का हाथ पकड़ा और उसे मैं करीब करीब खींचकर टेबल पे ले गयी. एक सांस में दारू का गिलास खत्म किया और उसे कहा- हम लोग गलत जगह आयी हैं.
उसने पूछा- क्या हुआ?
तो मैंने उसे बताया कि कैसे उसने मुझे पूछा कि ‘एक रात का कितना लोगी तुम दोनों?’
हम दोनों एक साथ हंस पड़ी.

रिया बोली – मैंने कहा था ना निकी कि हम दोनों रण्डियाँ ही दिखेंगी? तो उसने पूछ लिया होगा.
मैंने देखा कि बोलते बोलते रिया का हाथ उसकी चुत पे चला गया था. मैंने आँखें तरेर कर पूछा- ए, क्या इरादा है तेरा?
रिया के होटों पे एक कमीनी सी हंसी आई और उसने कहा- रंडी बनने का!

रिया ने मेरा हाथ पकड़ा और वो मुझे फिर से डांस फ्लोर पे ले गयी. हम दोनों फिर जम के नाची. अब शराब के सुरूर में वक्त का पता थोड़ी ही लगता है. करीब 12 बजे हमने वहाँ से निकलने की सोची.
खुद को ठीक ठाक करने के लिए हम वाश-रूम पहुंची ही थी तो देखा कि वही लड़का वहाँ खड़े होकर हमारी तरफ देख रहा था. वाश-रूम में मेक अप करते हुए मैंने रिया को ये बताया तो उसने मेरे पास आकर मेरे होंठ काटे और कहा- ?
मैंने उसे झटक दिया- चुप कमीनी!
तो उसने गिड़गिड़ाते कहा- यार चल ना. ऐश करने आयी हैं तो करती हैं ना! ऐसा मौका फिर कभी खुद चलकर नहीं आएगा! प्लीज! प्लीज! प्लीज!

मैंने एक बार थोड़ा सोचा, फिर रिया की तरफ देखा और उसकी चूत दबाते हुए कहा- चल देखते हैं! जो होगा सो होगा!
बस इतना बोलते ही रिया ख़ुशी के मरे मेरे गले लग गयी!

हम दोनों सिगरेट पीती हुई बाहर आयी. वो लड़का अभी तक वहीं खड़ा था. हम उसके पास गयी और पूछा- हाय, आय ऍम निकिता एन्ड शी इज रिया, तो क्या कह थे तुम?

उसने बड़ी गर्मजोशी से हमसे हाथ मिलाया और कहा- राजीव! मैं आप दोनों का एक रात का रेट जानना चाहता था.

मैंने कातिल मुस्कान के साथ कहा- झेल सकोगे हम दोनों को?
उसने भी हंस कर कहा- तौबा, मरना नहीं है मुझे. हम पांच दोस्त हैं, हम सबका दिल आ गया दोनों पे! तुम दोनों बहुत सेक्सी हो यार!

रिया और मुझे अच्छा खासा झटका लगा. हम दोनोन ने एक दूसरी की तरफ देखा. मैं राजीव को मना ही करने वाली थी कि रिया बोल पड़ी – वैसे तो हम एक रात का अकेली 25000 लेती हैं. वो भी एक के साथ. तुम पांच लोग हो. तुम कहो?

मेरी जान में जान आयी कि इतना सुनकर वो मना ही कर देगा.

उसने फ़ोन निकाला और थोड़ा दूर गया. शायद वो अपने दोस्तों से बात कर रहा था. मैंने रिया की बांह पकड़ के साइड में खींचा और कहा- मरवायेगी क्या तू! पांच लड़के हैं वो. आगे पीछे का कचूमर बना देंगे रात भर. और अगर उन्होंने हमें पैसे देकर खरीद लिया तो रात भर वहशी बन के नोचेंगे सब हमें! हम नहीं जाएंगी, चल वापिस चल!

मगर रिया टस से मस ना हुई, उसने कहा – ठीक है ना यार, जिंदगी में एक बार वेश्या बनना भी मंजूर है. हम ये पैसे के लिए थोड़ी कर रही है? हमें कौन सी कमी है पैसे की? जिंदगी के मजे लेने हैं बस! तुझे नहीं आना तो लौट जा. मैं तो जा रही हूँ!

तभी राजीव वापिस आया और उसने कहा- चलो, हम एक लाख देंगे तुम दोनों को पूरी रात के… मंजूर है तो बोलो?
रिया ने झट से कहा- मुझे तो मंजूर है. निकी का तो पता नहीं.
राजीव ने मेरी तरफ देखा, जैसे कह रहा हो ‘आना है या नहीं?’
मैंने एक पल सोचा और कहा- मंजूर है!
राजीव के चहरे पे एक लम्बी मुस्कुराहट छा गयी. उसने फिर कहा – इतने पैसे दे रहे हैं, तुम दोनों सब कुछ करोगी ना? उधर जाकर नखरे करोगी तो मेरे दोस्त मेरी ही गांड मारेंगे!

रिया ने आगे बढ़कर पैंट के ऊपर से लंड सहलाते हुए कहा- इतना तो वादा रहा कि तुम्हें आगे कभी और लड़कियाँ पसंद नहीं आएगी.

गहरी मुस्कान के साथ वो आगे चल पड़ा और हम उसके पीछे.
मेरी इंडियन चुदाई कहानी पर अपने विचार भेजें!
[email protected]

What did you think of this story??

Click the links to read more stories from the category or similar stories about , , , ,

You may also like these sex stories

Download a PDF Copy of this Story

Comments

Scroll To Top