दूसरी चूत-2 – मेरी बहन की चूत

(Dusri Chut-2-Meri Bahan Ki Chut)

2011-04-05

This story is part of a series:

  • keyboard_arrow_left

प्रेषक : माय विश

क्या मस्त चाट रही थी वह !

मेरे लण्ड में अकड़न आनी शुरू हो गई और उसने उसको पूरा मुँह में लेना शुरू कर दिया, अब मैं इधर अपनी जीभ अपनी सेक्सी बीवी कि चूत से बहते रस को चाट रहा था और वह चिल्ला रही थी- चाट लो मेरी चूत ! पी लो इसका रस !

और मेरे सर को अपनी चूत में दबाये जा रही थी।

मेरी बहन ने मेरे लण्ड को पूरा मुंह में लेकर चूसे जा रही थी और मैं तो सातवें आसमान पर था। इधर मेरी सेक्सी बीवी ने चूत को उछालना शुरू कर दिया और सिसिया रही थी- गई मैं तो ! पी लो इस मेरी चूत के रस को ! जीभ और अन्दर तक पेल दो, और अन्दर। और साथ साथ चूत उछाल रही थी।

और फिर उसने मेरे सर को अपनी चूत पर दबा दिया और मैं भी झरने से पानी पीने लगा। इस चूत के रस में भी क्या मस्ती है यह बताना बड़ा मुश्किल है पर जो मजा है वो किसी में नहीं।

अब मैंने इस चूत को छोड़ा और अपना ध्यान दूसरी चूत पर लगाया जो मेरे लण्ड को चूसे जा रही थी और अपनी चूत को अपनी उंगली से ही चोदे जा रही थी।

मैंने बोला- आओ मेरी बहना, जरा इस चूत को मुझे प्यार करने दो।

और फिर मैंने उसको उठा कर खड़ा किया और उसकी ब्रा को उतार दिया।

क्या मस्त चूचियाँ मेरे सामने थी, मैंने दोनों हाथों से उनको पकड़ कर सहलाना शुरू किया और मेरी प्यारी बहना ने आँखों को बंद कर के सिसकारना !

मेरी बीवी हम दोनों को आराम से देख रही थी।

अब मैंने धीरे से प्यारी बहन को अपनी तरफ खींचा, उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें पीने लगा, मेरे दोनों हाथ उसकी पीठ पर चलने लगे और धीरे से उसके कूल्हों पर भी हाथ फेरने लगा। अपने दोनों हाथों से मैंने उसकी पैंटी को नीचे खींचना शुरू किया तो मेरी बीवी ने इस काम में मेरी सहायता की और उसकी पैंटी को खींच कर नीचे तक उतार दिया और मैं उसकी चूत पर हाथ फिराने लगा। मेरी बहन की चूत भी एक दम चिकनी थी, ऐसे लगता था जैसे उसने भी आज ही चूत को पूरा चिकना बनाया हो।

अब मैंने उसे बैड पर लिटा दिया और उसकी मस्त चूत और कबूतरों को देख रहा था। मेरा लण्ड तो ज्यादा ही उत्तेजित हो रहा था कि नई चूत और वह भी प्यारी बहना की।

अब मैं पास बैठ कर उसके पूरे जिस्म को सहलाने लगा और मेरा एक हाथ उसकी चूत को ही सहला रहा था। वह सी सी करने लगी और बोली- भाई, मेरी चूत को तो चाट दो, भाभी की चूत तो तुम बहुत मस्त चाट रहे थे।

तो मैं बोला- आज तो मैं इस बहन की चूत, गाण्ड को खूब चोदने वाला हूँ।

और फिर मैंने उसे बोला- जरा टाँगें खोलो और मुझे तुम्हारी फ़ुद्दी चाटने दो।

उसने दोनों टाँगे पूरी फैला दी और बोली- लो भाई, इस बहन की नंगी चिकनी चूत तुम्हारे लिए पेश है, अपने लण्ड को इसमें घुसाओ और पेल दो अपनी घरवाली की ननदिया को।

मैंने प्यार से उस की चूत के होंठों को चूमा और चूत की महक का आनन्द लेने लगा।

उसकी चूत पहले ही गीली थी, मैंने धीरे से अपनी जीभ को उस के अन्दर पेलना शुरू कर दिया।

मेरी बीवी ने उसके बूब्स को पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया।

मैंने अब दोनों हाथों से चूत के होंठों को फ़ैलाया और अपनी जीभ उसकी दीवारों पर फेरनी शुरू कर दी।

वह और जोर जोर से बोलने लगी- हाँ भाई, ऐसे ही और अन्दर ! मजा आ गया ! और अन्दर !

मैंने भी पूरी जीभ अन्दर पेल कर चूत को चाटना चालू रखा। अब उसकी चूत पानी छोड़ने लगी थी और उसके रस को मैंने पीना शुरू कर दिया।

उसने भी मेरे सर को अपनी चूत में दबा दिया और बोली- चाट जाओ भाई, इस चूत को चाट जाओ ! आज तो बहुत मजा आयेगा।

और फिर उसने धीरे धीरे उछलना शुरू कर दिया, अपने चूतड़ ऊपर नीचे करने लगी और मैंने भी जीभ को और अन्दर पेलना शुरू रखा।अब मेरी बीवी और बहन दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगी।

इधर मेरी बहन की चिकनी चूत का पानी छूटने लगा और वह जोर जोर से उछलने लगी।

मैंने अपने दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को कस कर पकड़ा और उसकी चूत के पानी को पीने लगा।

और फिर वह भी झड़ गई।

अब दोनों औरतें एक बार झड़ चुकी थी और मैं सोच रहा था कि अब किसकी चूत में पहले अपना लण्ड पेलूँ।

फिर मेरे मन ने बोला कि पहले बहन को चोद कर ही लण्ड को शांत कर, बीवी को तो रोज ही चोदता है।

फिर मैंने बहन को बोला- तुम अब तैयार हो जाओ क्योंकि अब मैं अपना लण्ड तुम्हारी चूत में डालने वाला हूँ !

तो वह बोली- मैं कौन सा इस से डरती हूँ ! आओ देखते हैं कि तुम्हारे लण्ड में कितना दम है?

मैंने उसकी दोनों टांगों को फैलाया और अपने लण्ड को उसकी चूत पर टिकाया और उस पर रगड़ने लगा।

तो मेरी बीवी बोली- क्या ऐसे ही रगड़ते रहोगे या इसको चोदोगे भी?

अब मैंने एक जोर से झटका मारा और मेरा छह इंच का लण्ड मेरी प्यारी बहन की प्यारी सी चूत में घुसता चला गया।उसने भी एक सिसकारी भरी- चोद दिया, डाल दो इसके अन्दर पूरा अपना लण्ड और फाड़ दो अपनी बहन की चूत !

मेरी बीवी बोली- ले ले इस लण्ड को ! फिर मैंने भी लेना है।

मैंने धीरे धीरे लण्ड के झटके मारने शुरू किये और उसने अपनी दोनों टाँगें मेरी कमर के आस पास लपेट ली, मैंने दोनों हाथो से उसके बूब्स को पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया और धीरे धीरे धक्के भी लगाता रहा।

मेरी बीवी उठ कर दूसरी तरफ आ गई और मेरी बहन की गाण्ड में उंगली करने लगी, वह तो खूब मस्त हुए जा रही थी, बोल रही थी- बहनचोद, जोर से चोद ना ! क्या धीरे धीरे हिल रहा है?

मैंने बोला- अभी लो मेरी प्यारी बहना, तुम्हारी चूत में तो यह लण्ड धमाल मचाने वाला है और फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू की और उसके मुँह से आवाज़ें आने लगी- चोद दो भाई, मेरे भाई चोद दो, इस चूत को पूरा भर दो अपने लण्ड से, मेरी गांड में भी लण्ड डालना।

मैं भी मस्त हुए जा रहा था और चूत में लण्ड पेले जा रहा था।

अब चूत गीली होकर पानी छोड़ रही थी और फच फच की आवाज़ आने लगी, हमारी टाँगें आपस में टकरा कर फट-पट की आवाजें कर रही थी और हम दोनों ही सिसिया रहे थे।

मेरी बीवी का हाल भी बेहाल था, उसने अलमारी से स्ट्रैप-डिल्डो निकाल लिया।

अब मैं भी जोश में बोल रहा था- मेरी सेक्सी बहन, क्या मस्त चूचियां हैं तुम्हारी ! क्या मस्त चूत है तुम्हारी, तुम्हें तो मुझे पहले ही चोद देना चहिये था।

वह बोल रही थी- तुम मेरी चूचियों को तो पहले ही घूरते रहते थे पर तुम्हारी कभी हिम्मत इससे आगे बड़ी नहीं।

मैं बोला- तो आज तो चोद ही दिया मैंने तुम्हें !

तो मेरी बहन और मेरी बीवी दोनों हंसने लगी।

मैंने पूछा- क्या हुआ?

तो बोली- यह तुम मुझे नहीं चोद रहे हो, मैंने तुम्हें चोद रही हूँ।

अगर हम दोनों ने प्लान न बनाया होता तो तुम कैसे चोद सकते थे?

यह सुन कर मैंने बोला- तो ले मेरी बहन तूने ही मुझे चोदा पर मजा तो दोनों को आया।

और फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मेरी प्यारी बहन की चूत से आवाज़ आने लगी- फच फ़चाक फच !

और वह बोलने लगी- मेरी चूत तो पानी छोड़ने वाली है !

मैंने और स्पीड बढ़ाई और मेरे भी लण्ड से पानी निकलने वाला हो गया।

मैं बोला- बहन, तेरी चूत में मैं अपने लण्ड का पानी छोड़ने वाला हूँ !

वह बोली- छोड़ दो ! भर दो मेरी चूत में अपने लण्ड का पानी।

और फिर हम दोनों एक दूसरे से चिपक गए और अपने होंठों को चिपका कर किस करने लगे।

उसके मोटे मोटे बूब्स मेरी छाती में घुस रहे थे और मेरा लण्ड अपना पानी उसकी चूत में छोड़ रहा था।

फिर हम दोनों कुछ देर ऐसे ही चिपके रहे और किस करते रहे।

अब मेरी बीवी बोली- अब मुझे भी चोद दो !!

मैंने बोला- तुम्हें भी चोदूँगा, तुम्हारी चूत तो मेरे को रोज पागल करके रखती है।

पर इस अपने खिलौने को तो तैयार करो।

और फिर दोनों औरतों ने मेरे लण्ड पर अपनी आँखें गड़ा दी और जीभ फिराने लगी। दोनों ने मिल कर मेरे लण्ड को चूसना शुरू किया और मैं दोनों के बूब्स को पकड़ कर सहला रहा था।

मेरे लण्ड में तनाव आना शुरू हो गया और मेरी सेक्सी बीवी की स्पीड तेज हो गई और वह बोलने लगी- अब मेरी बारी।फिर मैंने उसे उठाया और बोला- चलो तुम्हारी चूत को भी मजा दिया जाये।उसने झट से बिस्तर पर लेट कर अपनी टाँगे फैला दी और बोली- जल्दी करो।

मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर टिका कर जोर से धक्का मारा और लण्ड उसकी चूत में पूरा समां गया।

मेरी बहन मेरी बीवी के ऊपर आ गई और अपनी चूत को उसके मुँह पर लगा दिया। मेरी बीवी ने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी और मैंने अपनी प्यारी बहन के सेक्सी बूब्स को पकड़ कर मसलना शुरू कर दिया।

मेरी बहन अपने हाथों से मेरी बीवी के बूब्स को दबा रही थी और कमरे में सबकी वासना और प्यार भरी सिसकारियाँ गूंज रही थी।

इतने में मेरी बहन ने उठ कर स्टैप डिल्डो को पहन लिया और मेरे पीछे आ गई,

वह मेरी गाण्ड पर हाथ फिरा रही थी और उसने पास में पड़ी वैसलीन उठाई और मेरी गांड में लगानी शुरू कर दी।

वह उंगली की मदद से उसे खूब अन्दर तक लगा रही थी और थोड़ी देर में उसकी दो उंगलियाँ मेरी गांड में आसानी से अन्दर-बाहर होने लगी।

मैंने अपनी बीवी के बूब्स को कस कर पकड़ लिया और जोर से चोदने लगा।

अब मेरी बहन ने मुझे बोला- भाई, अब मैं तुम्हारी गाण्ड मारने वाली हूँ !

तो मेरी बीवी बोली- हाँ हाँ ! कस कर मारना अपने भाई की गाण्ड।

और फिर उसने मेरी गांड के छेद पर डिल्डो लण्ड टिकाया और मेरी कमर को कस कर पकड़ कर बोली- अब तैयार हो जाओ !

और उसने जोर का झटका मारा। आधा डिल्डो मेरी गांड के छेद को चौड़ा करता हुआ अन्दर घुस गया और मेरी साँस रुक गई कि यह एक और धक्का मारे तो कुछ शुरू हो !!

फिर उसने एक और धक्का मारा और पूरा डिल्डो वाला लण्ड मेरी गांड के अन्दर घुस गया।

अब मैं बीवी को चोद रहा था और बहन मेरी गाण्ड मार रही थी।

अब बहना मुझे धक्का मारती और मैं बीवी को और दोनों की सिसकारियाँ निकलती।

धीरे धीरे मेरी गांड में से फच-फच की आवाज़ आने लगी और मेरी लण्ड की थाप मेरी बीवी की चूत पर तेज होने लगी।मेरी बीवी बोल रही थी- बहनचोद, आज तो और जोर से चोद ! तेरी बहन तुझे चोद रही है और तूने पहले उसे चोदा है। मैंने और स्पीड बढ़ा दी और फिर वह भी नीचे से मेरे लण्ड के साथ चूत को उछालने लगी।अब वह बोल रही थी- मेरा पानी निकलने वाला है।

और मैं भी झड़ने वाला था, मैंने भी बोला- मैं भी झड़ने वाला हूँ !

तो मेरी बहन ने भी स्पीड और बडढ़ा दी

और मेरी गांड में डिल्डो तेजी से पेलने लगी। और फिर मैं अपनी बीवी के ऊपर गिर गया और हम दोनों चिपट गए। उसकी चूत से गरम गरम पानी निकल कर बह रहा था और मेरे लण्ड ने वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया।

मेरी बहन अभी भी मेरी गांड में डिल्डो अन्दर-बाहर पेल रही थी और फिर वह भी मेरे ऊपर लेट गई।

अब हम तीनों एक दूसरे को देख रहे थे और चेहरे पर संतोष था पर मन अभी और भी कुछ चाह रहा था।

मैंने बहना से कहा- तुम्हें चोद कर आज मजा आ गया ! और वह भी बीवी के साथ ! यह तो बहुत मजेदार था।

बहन बोली- अभी तुम बैठो मत, अभी मुझे एक बार और चोदो ! मेरा मन अभी भरा नहीं है।

मैं बोला- लगता है तुम चुदवाने में बहुत तेज हो और पक्का तुम जीजा के अलावा औरों से भी चुदती होगी।

तो वह बोली- तुम्हारे जीजा और मैं, उनके कुछ दोस्तों के साथ स्वैप यानि अदला बदली करते हैं, और कभी ग्रुप सेक्स भी करते हैं।

मैं बोला- चलो अब मैं तुम्हें दूसरी पोजीशन में चोदता हूँ, कुतिया बना कर और तुम्हारी चूत को शांत करता हूँ।

वह झट से झुक गई, बोली- जल्दी करो !

मैंने भी पीछे उसकी कमर को पकड़ा और उसकी चूत में लण्ड पेल कर धक्के मारने लगा।

मेरी बीवी उसके झूलते बूब्स को मसलने लगी और मैं जोर जोर से चोद रहा था, वह चिल्ला रही थी- बहनचोद, जोर से चोद, फाड़ दे अपनी बहन की चूत, जोर से लण्ड पेल !

और मैं भी जोश में धक्के पर धक्के मार रहा था। अब उसकी चूत से पानी निकलने लगा और वह चिल्लाने लगी- चोद, जल्दी चोद पानी निकाल !

पर मैं तो अभी उसे खूब चोदना चाहता था क्योंकि बहन की चूत मारने का मौका मिला था और मैं उसे पेलने पर लगा हुआ था।

वह झड़ गई और चिल्लाने लगी- फट गई मेरी चूत, अब छोड़ दे मुझे !

और मैं और तेज पेलने लगा, अब मैंने उसे बोला- मैं अभी तुम्हें बहुत देर चोदने वाला हूँ ! तुम मेरे ऊपर आ जाओ !

मैं नीचे लेट गया और वह मेरी पैरों की तरफ मुँह करके अपनी चूत मेरे लण्ड पर टिका कर बैठ गई और उस पर कूदने लगी।

मेरी बीवी ने अपनी चूत मेरे मुँह पर लगा दी। अब मैं उसकी चूत को चाट रहा था और बहन अपनी चूत में मेरा लण्ड उछल उछल कर ले रही थी। और फिर दस मिनट बाद मेरे मुंह में चूत का झरना बहने लगा और मेरे लण्ड ने वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया और उस वीर्य के साथ मेरी बहन की चूत का पानी मिल कर उसकी चूत से बह रहा था।

तो यह था हमारा सेक्स जिसमें हम तीनों ने मिल कर खूब आनन्द उठाया।

तो दोस्तो, अब शुभ रात्रि, मैं अपनी डार्लिंग से चिपट कर सोने जा रहा हूँ !

What did you think of this story??

Click the links to read more stories from the category or similar stories about ,

You may also like these sex stories

Download a PDF Copy of this Story

Comments

Scroll To Top