राजस्थानी भाभी की चुदाई-2

(Rajsthani Bhabhi Ki Chudai Part-2)

आप सब ने मेरी पिछली कहानी

को बहुत प्यार दिया, बहुत मेल आए. आप सबका तहेदिल से धन्यवाद. पिछली कहानी का लिंक दे रहा हूँ, जिन्होंने नहीं पढ़ी हो वे इस लिंक पर जाकर भाभी की चुदाई का मजा ले सकते हैं.

जैसा मैंने पिछली कहानी में बताया था कि भाभी को पटा लिया था और हम एक शॉट मार चुके थे. एक ताबड़तोड़ चुदाई के बाद हम थोड़ी देर सो गए थे. उसके बाद लगभग 30 मिनट बाद हम दोनों उठे.

मैंने भाभी को बोला कि दो दिन साथ रहेंगे, तो मैं एक नियम बना देता हूँ, हम दोनों में से कोई भी कपड़ा नहीं पहनेगा.
भाभी ने मेरे लंड को हिलाते हुए कहा- ओके हनी.

चुदाई के बाद भूख लग गई थी, तो भाभी ने खाना बना रखा था. हम दोनों ने साथ में नंगे बैठकर खाना खाया. उसके बाद हम दोनों नंगे ही हॉल में बैठ कर टीवी देखने लगे.

थोड़ी देर बाद मैंने उसको बोला- चलो ब्लू फिल्म देखते हैं.
हमने टीवी पर मूवी लगा दी और ब्लू-फिल्म देखने लगे. ब्लू-फिल्म देखते हुए मेरा लंड खड़ा हो गया. उधर भाभी भी मेरा लंड रगड़ने लग गई. मैं भी उसकी चूत में उंगली कर रहा था.

थोड़ी देर बाद मेरे दिमाग में आईडिया आया. मैंने भाभी से पूछा- लिक्विड चॉकलेट है क्या घर में?
उसने कहा- हां है, पर क्या करोगे?
मैंने कहा- देखते जाओ जानेमन, बस तुम ले आओ.

भाभी नंगी ही अपनी गांड मटकाते हुए उठकर किचन से लिक्विड चॉकलेट का डिब्बा ले आई. मैंने चॉकलेट ली और उसकी चूत और बूब्स पर लगा दिया. काफी सारी लिक्विड चॉकलेट उसकी नंगी बॉडी पर डाल दिया.

वो समझ गई थी, उसने स्माइल किया. पहले रोमांटिक सीन शुरू होगा और चूत फटेगी बाद में.

मैंने उसके लिप्स को किस किया और उसे अपने बदन से चिपका कर रगड़ने लगा. इससे उसके जिस्म पर लगी लिक्विड चॉकलेट मुझे भी लग गई. मैंने उसकी चूचियों और चूत पर और भी ज्यादा लिक्विड चॉकलेट लगा दी.

मैं उसको लगभग 10 मिनट तक किस करता रहा था. हम दोनों धीरे धीरे बहुत मूड में आ रहे थे. अब मैंने उसके बूब्स चूसने शुरू कर दिए और चॉकलेट के साथ बूब्स का मज़ा बहुत अच्छा आ रहा था. मैं भाभी के निप्पल भी बीच बीच में काट रहा था.

मैं भाभी को किस करते हुए उसकी चूत पर आ गया था. यारों भाभी की चूत का टेस्ट बहुत मस्त हो गया था.

उधर वो चूत चटवाने की वजह से पागल हुई जा रही थी. भाभी गर्म आवाजें कर रही थी- आहह … आहह …
मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और लंड बहुत बड़ा हो गया था मानो अभी फटेगा. उसके बाद भाभी भी जोश में आ गई थी. उसने भी बैठ कर मेरा लंड पकड़ लिया और चूसने में लग गई.

मैंने चॉकलेट का रस लिया और अपने लंड पर टपकाते हुए उसके मम्मों को भी भिगो दिया. उसके मम्मों से टपक कर चॉकलेट का रस मेरे लंड पर लगता जा रहा था. वो लंड चूसते हुए चॉकलेट चाट रही थी.

मैंने भाभी को बोला- घुटनों के बल ऐसे बैठ जाओ … जिससे तुम्हारे मम्मे मुझे मस्त दिखें. अब मैं तुम्हारे मम्मों को चोदूंगा.
भाभी अपने मम्मों को जाँघों में फंसा कर उनको दिखाते हुए भाभी मेरे लंड को इनवाईट करने लगी. मैंने लंड को मम्मों में फंसा दिया, भाभी ने भी मेरे लंड को अपने मम्मों में दबा लिया और लंड बाहर न निकल सके, ऐसा कर लिया.
इस प्रकार अब मैं भाभी के मम्मों को चोद रहा था और साथ में वो ऊपर आते हुए लंड को भी चूस रही थी. इस तरह से सेक्स करने में बहुत ही ज्यादा मज़ा आ रहा था. हम दोनों पागल हो रहे थे.

अब मैंने दुबारा चॉकलेट उसकी बॉडी और चूत पर लगाया और उसको पूरी बॉडी को चाटने लगा. मैं उसकी चूत चाट रहा था, वो पागलों की तरह सिसकारियां भर रही थी. भाभी कामुकता से बोल रही थी- आह आह आह … चोद दो यार … अब रुका नहीं जा रहा है … मैं मर जाऊँगी.
मैंने सोचा कि माल गरम है, चोद दिया जाए.

मैंने भाभी को लेटा लिया और उसकी टांगें अपने कंधों पर रखते हुए लंड सैट करके पहला झटका मारा. मेरा लंड भाभी की चूत में लगभग जा चुका था. भाभी की एक कराह उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल गई. तभी दूसरे झटके में मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया.

मैंने भाभी को चोदना शुरू कर दिया था. मैं इस वक्त भाभी को फुल रफ्तार में चोद रहा था और भाभी आवाजें कर रही थी. वो टांगें हवा में उठा कर मेरे को बोल रही थी- आह … आज मुझे रंडी की तरह चोद दो … आह … पूरा अन्दर जा रहा है … आह..

कुछ देर यूं ही चोदने के बाद मैंने लंड खींच लिया. भाभी ने मेरी तरफ सवालिया नजरों से देखा. मैंने उसको डॉगी पोजीशन में आने को कहा. भाभी झट से कुतिया बन गई. मैंने भाभी को कुतिया बना कर पीछे से लंड पेला और उसको धकापेल चोदा. ये मेरी सबसे पसंद की पोजीशन है.

मैंने उसको लगभग दस मिनट इस पोजीशन में चोदा. वो लगभग दो बार झड़ चुकी थी.

अब कुछ देर बाद मैंने उसको सीधा लिटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया लगाकर के उस पर चढ़ गया. फिर मैंने भाभी को इसी पोजीशन में बहुत देर तक चोदा. अब वो थकने लगी थी और मेरा भी झड़ने वाला था. मैंने स्पीड बढ़ा दी. वो समझ गई कि मेरा काम तमाम होने वाला है, उसने कहा- पानी मेरे अन्दर ही निकालना.

तेज झटकों के बाद मैं भाभी की चूत में ही झड़ गया और हम दोनों निढाल से होकर गिर गए.

उसने थकी हुई आवाज में हांफते हुए कहा- आज तक मैंने ऐसी चुदाई नहीं करवाई यार … मैं तो आपकी चुदाई की दीवानी हो गई. आपने रोमांटिक अंदाज़ से चुदाई शुरू की और मेरी फुद्दी पूरी बजा के रख दी.
उसके तृप्त चेहरे से लग रहा था कि वो बहुत खुश हो गई है.

उसके बाद उसने बातों बातों में बताया कि उसकी एक सहेली है, जो काफी प्यासी है और चुदाई के लिए अच्छे लंड की तलाश में है.
मैंने उसकी बात पर कोई उत्तर नहीं दिया, तो उसने पूछा कि अगर आपको प्रॉब्लम न हो, तो उसको भी चोद दो.
मैंने हामी भर दी.

फिर उसने एक इच्छा और बताई कि वो ग्रुप सेक्स करना चाहती है. मैंने उसको सुझाव दिया कि पहले एक बार अपनी सहेली को मुझसे चुदवा दो, फिर उससे भी जानकारी हो जाएगी. तो ग्रुप सेक्स में ज्यादा मज़ा आएगा.
भाभी ने मेरे सामने ही उसको फोन कर दिया कि कल आ जा तेरे लिए लंड का इंतजाम हो गया है.

इसके बाद भाभी मेरे लंड से खेलने लगी और लंड चूस कर उसे फिर से खड़ा करने लगी.

दोस्तो, मेल करके बताना कहानी कैसी लगी. आपके मेल का इंतज़ार रहेगा और कुछ दोस्त फेसबुक आईडी भी पूछ रहे थे तो दोनों दे रहा हूं.

मेल आईडी- [email protected]
फेसबुक आईडी- />

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top