ट्रेन में बनी सेक्सी स्टोरी बुर्के वाली की चूत चुदाई की

(Train Me Bani Sexy Story Burke Wali Ki Choot Chudai Ki)

2017-05-11

नमस्कार ठरकी भाईयों और चुदासी बहनों तथा भाभियो!
मेरा नाम विशाल राव है। मेरी पिछली चुदाई की कहानी को आप लोगों ने बहुत पसंद किया और मुझे आप सभी के इमेल भी मिले, इसके लिए आप सबका मेरे खड़े लंड से धन्यवाद।
अब मैं मेरी एक और चुदाई की कहानी यहाँ लिख रहा हूँ। यह बात थोड़े समय पहले की ही है।

मैं राजनीतिशास्त्र का अध्यन कर रहा हूँ, अपने विषय को लेकर मेरा घूमना होता रहता है।
ऐसे ही एक काम की वजह से मैं दिल्ली गया हुआ था। काम खत्म करके मैं शाम की ट्रेन से अपने घर आने के लिए बड़ौदा, गुजरात के लिए निकला। ट्रेन मैंने हजरत निजा़मुद्दीन स्टेशन से पकड़ी थी।

तो हुआ यूं कि मेरे सामने वाली सीट पर एक बुर्के वाली लड़की आ कर बैठ गई। हालांकि वो सीट उसकी नहीं थी, यह बात बाद में टी.सी. के आने पर पता चली।
मुझे पहले से ही बुर्के वाली लड़कियां बहुत पसंद हैं, बुर्के में वे कमाल दिखती हैं। यह लड़की भी मुझे पसंद आ गई थी.. मेरा मन उसको बुर्के में ही पकड़ कर चोदने का कर रहा था।

थोड़ी देर बाद एक स्टेशन जाने के बाद जब टी.सी.आया तो उसने उस लड़की की वेटिंग टिकट देख कर डिब्बे से उतर जाने को कहा।

वो लड़की थोड़ी परेशान हो उठी तो मैंने मौका पाकर उससे कहा- ऐसा कीजिए आप मेरे साथ यहां सीट पर बैठ जाइए और हम बारी-बारी से नींद मार लेंगे।

उसके पास कोई दूसरा विकल्प न होने पर वो मान गई। मैं तो उसे देख-देख कर ही बेकाबू हो रहा था, लेकिन लोगों के होने के कारण कुछ हो भी नहीं सकता था।

धीरे-धीरे मैंने उससे बातें करनी शुरू की, जिससे वो मेरे साथ कम्फर्टेबल रहे।
मैं- आपको कहां तक जाना है?
वो- मुझे अहमदाबाद तक जाना है, आप कहां तक जाने वाले हो?
मैं- मैं बड़ौदा तक जाऊँगा, बाद में आपको ये सीट पूरी मिल जाएगी।
‘ओके..’

मैं- क्या मैं आपका नाम जान सकता हूं?
वो- मेरा नाम नूरजहां है, घर पर सब मुझे नूरी कहते हैं।
मैं- आपका नाम भी आपकी ही तरह खूबसूरत है।
नूरी- थैंक्स.. लेकिन आप बिना पूरी तरह देखे ही फ्लर्ट अच्छा कर लेते हैं।

मैंने थोड़ा चैक करने के लिए दोअर्थी भाषा बोलते हुए कहा- करने के लिए देखने की क्या जरूरत है?
नूरी ने भी आँख मार कर कहा- बिना देखे करने में मजा भी नहीं आता है।

इस पर वो और मैं हंस कर एक-दूसरे की तरफ देखने लगे। मुझे भी इस पर मौका मिलता देख.. मैंने चान्स मारना शुरू कर दिया।
वो मेरे साथ ही बैठी थी.. तो धीरे-धीरे ट्रेन की स्पीड के आड़ में मैंने उसे टच करना शुरू किया और उसकी तरफ से कोई विरोध न होता देख मैं धीरे से उसके मम्मे दबाने लगा।
इस पर वो बोली- रुक जाओ.. रात तो हो जाने दो वरना अभी सब देख लेंगे।
मैं भी अब रात को सबके सोने का इन्तजार करने लगा।

रात को करीब 12 बज चुके थे तो मैंने उसे इशारा किया। वो भी चुदासी हो उठी थी तो उसने चालाकी से चादर ओढ़ ली और मुझे भी अन्दर बुला लिया।

मैं भी उसके साथ लेट गया और बुर्के के ऊपर से ही उसके सारे बदन पर हाथ घुमाने लगा, तो वो भी गर्म होने लगी।
मैं उसके बुर्के का चेहरे का नकाब हटाकर उसे लंबी किस करने लगा। जब मैंने उसे देखा तो वो बला की खूबसूरत थी। मैंने उसका मुँह दूसरी तरफ कर दिया और खुद उसकी पीठ की तरफ हो गया। वहाँ से मैं जोर-जोर से उसके मम्मे दबाने लगा और उसकी गांड पर अपना लंड रगड़ने लगा।

थोड़ी देर बाद मैं उसे अपनी तरफ घुमाकर उसके होंठ को जोरों से चूसने लगा और बुर्के के ऊपर से ही उसकी चूत सहलाने लगा।

अब मैंने उसके कंधों को नीचे की तरफ दबाया तो वो इशारा समझते हुए चादर में ही नीचे होकर मेरा लंड कुल्फी की तरह चूसने लगी। वो साली इतना जोरों से लंड चूस रही थी कि मुझे लग रहा था कि भैन की लौड़ी लंड ना उखाड़ ले।

कुछ ही पलों के बाद मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। वो भी इतनी चुदासी थी कि साली मेरा सारा रस एक एक बूंद तक चाट गई।

उसके बाद मैंने उसे पीठ के बल लेटा दिया और उसके ऊपर चढ़कर मिशनरी पोजीशन में आ गया।

हालांकि मुझे एक आदत है.. मैं चूत को उंगली से टटोल कर लंड घुसाता हूँ, तो इस बार भी मैंने उसकी चूत टटोली.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे तो उसकी चूत बड़ी टाइट लगी।
यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

लेकिन मैं अब तक चूत की हालत कुछ समझ नहीं पा रहा था.. तो मैंने लंड को निशाने पर रख कर एक जोर से धक्का लगा दिया। वो एकदम जोर से चिल्ला पड़ी तो मैंने बाजी संभालने के लिए उसके मुँह को अपने हाथ से दबा दिया और लंड को सुपारे तक बाहर निकाल कर दूसरा जबरदस्त धक्का दे दिया, जिस पर उसके मुँह से गूंगूं की आवाजें निकलने लगीं।

लेकिन मैं बिना रुके अपनी रफ्तार बढ़ाकर उसकी चूत में धक्कों पे धक्के देने लगा, हर धक्के पे वो दर्द के मारे अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ाए जा रही थी, जिससे मुझे उसे चोदने में और भी मजा आ रहा था।

करीब दस मिनट की उसकी चूत रगड़ाई के बाद में मैं उसकी चूत में छूट गया और थोड़ी देर उसके ऊपर ही लेटा रहा।

थोड़ी देर बाद मैं उसके ऊपर से हट कर उसके बाजू में आ गया और हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किए।

हालांकि वो अपनी चूत साफ करने टॉयलेट जाना चाहती थी, पर उससे उठा नहीं जा रहा था।

मैंने उसे इशारे से लेटे रहने को कहा, जिस पर वो मान गई और उसने मेरे करीब आकर मुझे गाल पर किस करके कहा- वैसे तो आपने मुझे बहुत दर्द दिया.. लेकिन उसके साथ मजा भी आया।

इसके बाद में हम दोनों चिपक कर सो गए.. जब मेरा स्टॉप आया तो मैं उतरने ही वाला था कि उसने मुझे अपना नंबर दिया और कहा- अगर अब अहमदाबाद आओ तो मुझे चोदने जरूर आना।

जिस पर मैं उसे एक किस करके उतर गया।

दोस्तो, यह थी मेरी ट्रेन के सफर की चुदाई की कहानी.. ये कहानी आपको कैसी लगी यह मुझे जरूर बताना।
[email protected]

What did you think of this story??

Click the links to read more stories from the category or similar stories about , ,

You may also like these sex stories

Download a PDF Copy of this Story

Comments

Scroll To Top