राज वीर 69

मेरे छोटे भाई की पत्नी शादी से पहले ही मेरे लंड के ख्वाब देखने लगी थी. हालांकि छोटे भाई का लंड भी बहुत दमदार था मगर वह अब भी मेरे ही लंड की दीवानी थी. उसने अपने मन की कौन सी इच्छाएं पूरी कीं, कहानी के अंतिम भाग में पढें.

मैंने अपने छोटे भाई की हसीन बीवी को गोद में उठा लिया और अपनी बीवी को अपने छोटे भाई के साथ चुदाई के लिए छोड़ दिया. उन दोनों की घमासान चुदाई पढ़कर मजा लें.

मेरा भाई अपनी भाभी की चूत का प्यासा था और उसकी बीवी मेरे लंड को अपनी गीली चूत में लील लेना चाहती थी. मेरी बीवी पूरी नंगी बेड पर बंधी हुयी इन्तजार कर रही है.

छोटे भाई और उसकी सेक्सी बीवी के आग्रह पर मैंने अपनी बीवी को अदला-बदली का खेल खेलने वापस बुला लिया. मौका खास था तो तैयारी भी मैं खास करना चाहता था. कहानी में पढ़ कर स्वयं जान लें.

अपने भाई विक्रम और उसकी बीवी की कामुक इच्छाएं सुन मैं हैरान था मगर उससे ज्यादा हैरानी तो तब हुई जब मेरे भाई ने मुझे एक और सच बताया. क्या था वो सच?

मेरी पत्नी और मेरे छोटे भाई का कॉलेज टाइम का प्रेम सम्बन्ध मुझे पता लगा तो मैं चकित रह गया. मगर मेरे लिए एक और सरप्राइज इंतजार कर रहा था. क्या था वो?

मेरे साले सलहज संग बीवियों की अदला-बदली सुन मेरा भाई मेरी बीवी को चोदने के लिये तड़पने लगा. पर उसने मेरी बीवी की एक सच्चाई मुझे बतायी तो मेरा दिमाग ही हिल गया.

साले सलहज के साथ बीवियों की अदला-बदली वाला खेल खेलते हुए आनंदमयी जीवन कट रहा था. पर जल्दी हम चारों को अलग होना पड़ा. हमारी जिंदगी में कौन सा नया मोड़ आया?

मैंने बाथरूम में रखी हुई क्रीम अपने लिंग और उसकी गांड के छेद पर मल कर एक बार फिर प्रयास किया. तब मेरा लिंग मुंड उसके उसकी गांड में घुस गया।

हमें तो ऐसे कार्यक्रम आयोजन से पहले केवल चूत ही दिखती है। हमारा मन बस सोचता है कि किसकी चुदाई कैसे करनी है। अर्थात् जहाँ दिखा चीरा, वहीं डाल देंगे खीरा।

भाई अगर अपनी बहन को नंगी देख कर अपने हाथ से अपने आप को संतुष्ट कर सकता है तो उस लिंग को अपनी बहन की चूत में डाल कर संतुष्ट करने में क्या बुराई है।

दीदी के इतने आकर्षक भरे हुए शरीर को देखकर समझ नहीं आ रहा था कि मैं उनके स्तनों का मजा लूं या उनकी मोटी गांड का। उनकी गोरी जांघ पर अपनी जीभ फिर आऊं उनके प्यारे चेहरे पर चुंबनों की बरसात कर दूं।

सलहज की पहली घमासान चुदाई के बाद मेरा लिंग आराम कर रहा था तो ध्यान मेरी पत्नी और उसके भाई की तरफ चला गया, मैं सोचने लगा कि दोनों भाई बहन किस तरह की चुदाई कर रहे होंगे?

मेरे साले की बीवी कपड़े उतार चुकी थी तो मैंने भी टीशर्ट, लोअर उतारकर पूरा नग्न होकर अपने पूर्ण नंगे बदन को सीमा के पीछे टिका दिया। मेरा लिंग उसकी गांड के छेद पर टिक गया।

मैं मानता हूं कि हमारी सभ्यता और संस्कृति इसके विपरीत है किंतु भारत में भी अब ऐसा कल्चर है जहां पर लोग अपने मनोरंजन के लिए अपनी बीवियां बदल कर चुदाई करते हैं। और हम ऐसा मजबूरी में कर रहे हैं।

जो मजा रजामंदी के साथ सेक्स करने में है वह किसी को बेहोश करके करने में नहीं। बीवी की अदला बदली अगर अपनी चारों की मर्जी से हो तो उसका आनंद ही कुछ और है. अतः हम चुदाई उनकी रजामंदी से ही करेंगे।

वाइफ स्विंगिंग कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने साले को बताया कि उसकी दीदी अदला बदली का खेल खेल चुकी है. मैं उसको उसकी सेक्सी बहन को चोदने के लिए तैयार कर रहा था ताकि मुझे उसकी बीवी की चूत मिले बदले में!

रात में मुझे अपने साले और सलहज की मजे के साथ सेक्स में कराहने की आवाज सुनाई देती थी। दोनों की चुदाई की काफी तेज आवाज आती, मेरी सलहज की सिसकारियां मुझे बेचैन कर जाती थी।

साले से वाइफ स्वैपिंग की इच्छा तब हुई जब वो घर में छोटी सी निकर पहन कर मेरे सामने घूमती तो उसकी गोरी जांघें मेरे दिल में हलचल पैदा कर देती थी. मेरे साले की बीवी यानी मेरी सलहज जीरो फीगर वाली, सेक्सी फिल्मों की हीरोइन कृति सेनन जैसी थी।

मेरा लक्ष्य दोस्त की बीवी की गांड मारना था क्योंकि मुझे पता था कि उसने मेरे दोस्त से कभी गांड नहीं मरवाई. जब अपने पति को ही गांड नहीं दी तो वह मुझे आसानी से अपनी गांड नहीं देने वाली थी।

अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें

हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, सहमति बॉक्स को टिक करें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।

Scroll To Top