चुदासी भाभी ने चोदना सिखाया-6

2015-01-27

Chudasi Bhabhi ne Chodna Sikhaya-6

भाभी पूरी बिल्ली जैसी लग रही थीं जो मलाई चाटने के बाद अपनी जीभ से बची हुई मलाई को चाटती है।

भाभी ने अपनी गुलाबी जीभ अपने होंठों पर फिरा कर वहाँ लगा वीर्य चाटा और फिर अपनी हथेली से अपनी चूचियों को मसलते हुए पूछा- क्यों देवर राजा.. मज़ा आया लंड चुसवाने में?’

‘बहुत मज़ा आया भाभी.. तुमने तो एक दूसरी जन्नत की सैर करवा दी… मेरी जान… आज तो मैं तुम्हारा सात जन्मों के लिए गुलाम हो गया… कहो क्या हुक्म है?’

‘हुक्म क्या.. बस अब तुम्हारी बारी है।’

‘क्या मतलब.. मैं कुछ समझा नहीं?’

‘मतलब यह मेरे भोले राजा.. कि अब तुम मेरी चूत चाटो…’

यह कह कर भाभी खड़ी हो गईं और अपनी चूत मेरे चेहरे के पास ले आईं।
मेरे होंठ उनकी चूत के होंठों को छूने लगे।

भाभी ने मेरे सिर को पकड़ कर अपनी कमर आगे की और अपनी चूत मेरे नाक पर रगड़ने लगीं।
मैंने भी भाभी के चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ लिया और उनकी गाण्ड सहलाते हुए उनकी रिस रही चूत को चूमने लगा।

भाभी की चूत की प्यारी-प्यारी खुश्बू मेरे दिमाग़ में छाने लगी.. मैं दीवानों की तरह भाभी की चूत और उसके चारों तरफ चूमने लगा… बीच-बीच में मैं अपनी जीभ निकाल कर भाभी की रानों को भी चाट लेता।

भाभी मस्ती से भर कर सिसकारी लेते हुए बोलीं- हाय राजा आहह.. जीभ से चाटो ना… अब और मत तड़पाओ राजा… मेरी बुर को चाटो… डाल दो अपनी जीभ मेरी चूत के अन्दर… अन्दर डाल कर जीभ से चोदो..’

अब तक भाभी की नशीली चूत की खुशबू ने मुझे बुरी तरह से पागल बना दिया था।
मैंने भाभी की चूत पर से मुँह उठाए बिना उन्हें खींच कर पलंग पर बैठा दिया और खुद ज़मीन पर बैठ गया।

भाभी की जाँघों को फैला कर अपने दोनों कंधों पर रख लिया और फिर आगे बढ़ कर भाभी की चूत की होंठों को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया।

भाभी मस्ती से बड़बड़ाने लगीं और अपने चूतड़ों को और आगे खिसका कर अपनी चूत को मेरे मुँह से बिल्कुल सटा दिया।
अब भाभी के चूतड़ पलंग से बाहर हवा में झूल रहे थे और उनकी मखमली जांघों का पूरा दबाब मेरे कंधों पर था।

मैंने अपनी पूरी की पूरी जीभ उनकी चूत में ठेल दी और चूत की अन्दरूनी दीवालों को सहलाने लगा।

भाभी मस्ती से तिलमिला उठीं और अपने चूतड़ों को उठा-उठा कर अपनी चूत मेरी जीभ पर दबाने लगीं।

‘हाय राजा.. क्या मज़ा आ रहा है… अब अपनी जीभ को अन्दर-बाहर करो ना..आअ.. चोदो राजाआअ.. चोदोऊव.. अपनी जीभ से चोदो मुझे मेरे सैयाँ… हय राजा तुम ही तो मेरे असली सैयाँ हो… पहले क्यों नहीं मिले.. अब सारी कसर निकालूँगी… बड़ा तड़पी हूँ पिछले साल भर से… हय राजा.. चोदो मेरी चूत को अपनी जीभ से…’

मुझे भी पूरा जोश आ गया और भाभी की चूत में जल्दी-जल्दी जीभ अन्दर-बाहर करते हुए उसे चोदने लगा।

भाभी अभी भी ज़ोर-ज़ोर से कमर उठा कर मेरे मुँह को चोद रही थीं।

मुझे भी इस चुदाई से का मज़ा आने लगा।

मैंने अपनी जीभ कड़ी करके सीधी कर ली और सिर आगे-पीछे कर के भाभी की चूत को चोदने लगा।

भाभी का मज़ा दोगुना हो गया।
वे अपने चूतड़ों को ज़ोर-ज़ोर से उठाती हुए बोलीं-और ज़ोर से लाला.. और ज़ोर से.. हय मेरे प्यारे देवर.. आज मैं तेरी माशूका हो गई… जिंदगी भर के लिए चुदवाऊँगी तुझसे… आह.. उईईइ माँआ..!’

भाभी अब झड़ने वाली थीं.. वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाते हुए अपनी चूत मेरे पूरे चेहरे पर रगड़ रही थीं।

मैं भी पूरी तेज़ी से जीभ लपलप करते हुए भाभी की चूत पूरी तरह से चाट रहा था।

अपनी जीभ भाभी की चूत में पूरी तरह अन्दर डाल कर मैं हिलने लगा… जब मेरी जीभ भाभी की भगनासा से टकराई तो भाभी की सब्र का बाँध टूट गया और मेरे चेहरे को अपनी जांघों में जकड़ कर भाभी ने चूत मेरे मुँह से चिपका दी।

अब भाभी का पानी बहने लगा और मैं भाभी की चूत के दोनों होंठों को अपने मुँह में दबा कर जवानी का नमकीन अमृत पीने लगा।

मेरा लंड फिर से लोहे की रॉड की तरह सख़्त हो गया था।
मैं उठ कर खड़ा हो गया और अपने लंड को हाथ से सहलाते हुए भाभी को पलंग पर सीधा लिटा कर उनके ऊपर चढ़ने लगा।

भाभी ने मुझे रोकते हुए कहा- ऐसे नहीं मेरे सैयाँ.. चूत का मज़ा तुम कल ले चुके हो.. आज मैं तुम्हें दूसरे छेद का मज़ा दूँगी..

मेरी समझ में कुछ नहीं आया…

भाभी बोलीं- राजा आज तुम अपने शाही लौड़े को मेरी गाण्ड में डालो।

वे उठ कर बैठ गईं और मेरे हाथ हटा कर दोनों हाथों से मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाते हुए अपनी दोनों चूचियों के बीच दबा-दबा कर लंड के सुपारे को चूमने लगीं।

भाभी की चूचियों की गर्माहट पाकर मेरा लौड़ा और भी जोश में जकड़ गया।

मैं हैरान था… इतनी छोटी सी गाण्ड के छेद में मेरा लंड कैसे जाएगा।

मैं बोला- भाभी गाण्ड में कैसे?

भाभी बोलीं- हाँ.. मेरे राजा.. गाण्ड में ही.. पर देवर राजा.. पीछे से चोदना इतना आसन नहीं है.. तुम्हें पूरा ज़ोर लगाना होगा।

इतना कह कर भाभी ने ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लपेट दिया और पूरे लंड की मालिश करने लगीं।

‘पर भाभी गाण्ड में लंड घुसड़ने के लिए ज्यादा ज़ोर क्यों लगाना पड़ेगा?’

‘वो इसलिए राजा.. कि जब औरत गर्म होती है.. तो उसकी चूत पानी छोड़ती है.. जिससे लौड़ा आने-जाने में आसानी होती है… पर गाण्ड तो पानी नहीं छोड़ती.. इसीलिए घर्षण ज्यादा होता है और लंड को ज्यादा ताक़त लगानी पड़ती है.. गाण्ड मारने वाले को भी बहुत तकलीफ़ होती है… पर राजा इसमें मरवाने वाले को भी और मारने वाले को भी मज़ा बहुत आता है… इसीलिए गाण्ड मारने के पहले पूरी तैयारी करनी पड़ती है।’

‘क्या तैयारी करनी पड़ती है?’

भाभी मुस्कुरा कर पलंग से उतरीं और अपने चूतड़ों को लहराते हुए ड्रेसिंग टेबल से वैसलीन की शीशी उठा लाईं।

ढक्कन खोल कर ढेर सारा वैसलीन अपने हाथों में ले ली और मेरे लौड़े की मालिश करने लगीं।

अब मेरा लौड़ा रोशनी में चमकने लगा।

फिर मुझे डिब्बी दे दी और बोलीं- अब मैं झुकती हूँ और तुम मेरी गाण्ड में ठीक से वैसलीन लगा दो।

भाभी पलंग पर पेट के बल लेट गईं और अपने घुटनों के बल उठ कर अपने चूतड़ों को हवा में उठा दिया।

देखने लायक नज़ारा था… भाभी के गोल-मटोल गोरे-गोरे चूतड़ मेरी आँखों के सामने लहरा रहे थे।

मुझसे रहा नहीं गया और झुक कर चूतड़ों को मुँह में भर कर कस कर काट लिया।

भाभी की चीख निकल गई…

फिर मैंने ढेर सारी वैसलीन लेकर भाभी के चूतड़ों की दरार में लगा दी।

भाभी बोलीं- अरे मेरे भोले सैयाँ.. ऊपर से लगाने से कुछ नहीं होगा… ऊँगली से लेकर अन्दर भी लगाओ और अपनी ऊँगली पेल-पेल कर पहले छेद को ढीला करो।’

मैंने अपनी बीच वाली ऊँगली पर वैसलीन लगा कर भाभी की गाण्ड में घुसड़ने की कोशिश की… पहली बार में जब नहीं घुसी तो दूसरे हाथ से छेद फैला कर दोबारा कोशिश की.. तो मेरी ऊँगली थोड़ी सी ऊँगली घुस गई।

मैंने थोड़ा बाहर निकाल कर फिर झटका दे कर डाली तो ‘घपाक’ से पूरे ऊँगली अन्दर धँस गई।

भाभी ने एकदम से अपने चूतड़ों को सिकोड़ लिया जिससे कि ऊँगली फिर बाहर निकल आई।

भाभी बोलीं- शाबास.. अब इसी तरह कुछ देर तक ऊँगली अन्दर-बाहर करते रहो।

मैं भाभी के कहे मुताबिक ऊँगली जड़ तक अन्दर-बाहर करने लगा।

मुझे इसमें बड़ा मज़ा आ रहा था।

भाभी भी कमर हिला-हिला कर मज़ा ले रही थीं।

कुछ देर यूँ ही मज़ा लेने के बाद भाभी बोलीं- चलो राजा आ जाओ मोर्चे पर.. और मारो गाण्ड अपनी भाभी की…

मैं उठ कर घुटने का बल बैठ गया और लंड को पकड़ कर भाभी की गाण्ड के छेद पर रख दिया।

भाभी ने थोड़ा पीछे होकर लंड को निशाने पर लिया.. फिर मैंने भाभी के चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ कर धक्का लगाया।

भाभी की गाण्ड का छेद बहुत टाइट था।
मैं बोला- भाभी नहीं घुस रहा है।

भाभी ने तब अपने दोनों हाथों से अपने चूतड़ों को खींच कर गाण्ड की छेद को चौड़ा किया और दोबारा ज़ोर लगाने को कहा।

इस बार मैंने थोड़ा और ज़ोर लगाया और मेरा सुपारा भाभी की गाण्ड के छेद में चला गया।

भाभी की कसी गाण्ड ने मेरे सुपारे को जकड़ लिया.. मुझे बड़ा मज़ा आया।

मैंने दोबारा धक्का दिया और भाभी की गाण्ड को चीरता हुआ मेरा आधा लंड भाभी की गाण्ड में दाखिल हो गया।

भाभी ज़ोर से चीख उठीं, ‘ऊ माँ.. दुख़ता है.. मेरे राजा…’

पर मैंने भाभी की चीख पर कोई ध्यान नहीं दिया और लंड थोड़ा पीछे खींच कर जोरदार शॉट लगाया।

मेरा 9′ का लौड़ा भाभी की गाण्ड को चीरता हुआ पूरा का पूरा अन्दर दाखिल हो गया।

भाभी फिर चीख उठीं।

वो बार-बार अपनी कमर को हिला-हिला कर मेरे लंड को बाहर निकालने की कोशिश कर रही थीं।

मैंने आगे को झुक कर भाभी की लटकती चूचियों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।

मेरा लंड अभी भी पूरा का पूरा भाभी की गाण्ड के अन्दर था।

कुछ देर बाद भाभी की गाण्ड में लंड डाले हुए उनकी चूचियों को सहलाता रहा।

जब भाभी कुछ सामान्य हुईं तो अपने चूतड़ों को हिला कर बोलीं- चलो राजा अब ठीक है…

भाभी का सिग्नल पाकर मैंने दोबारा सीधे होकर भाभी के चूतड़ों को पकड़ कर धीरे-धीरे कमर हिला कर लंड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

भाभी की गाण्ड बहुत ही टाइट थी… इससे चोदने में बड़ा मज़ा आ रहा था।

अब भाभी भी अपना दर्द भूल कर सिसकारी भरते हुए मज़ा लेने लगीं।

उन्होंने अपनी एक ऊँगली अपनी चूत में डाल कर कमर हिलाना शुरू कर दिया।

भाभी की मस्ती देख कर मैं भी जोश में आ गया और धीरे-धीरे अपनी रफ़्तार बढ़ा दी।

मेरा लंड अब पूरे तेज़ी से भाभी की गाण्ड में अन्दर-बाहर हो रहा था।

भाभी भी पूरी तेज़ी से कमर आगे-पीछे करके मेरे लंड का मज़ा ले रही थीं।

लंड ऐसे अन्दर-बाहर हो रहा था मानो इंजिन का पिस्टन… पूरे कमरे में चुदाई का ‘ठप-ठप’ की आवाज़ गूँज रही थी।

जब भाभी के थिरकते हुए चूतड़ों से मेरी जांघें टकराती थीं तो लगता कोई तबलची तबले पर ठाप दे रहा हो।

भाभी पूरे जोश में पूरी तेज़ी से चूत में ऊँगली अन्दर-बाहर करती हुई सिसकारी भर रही थीं।

हम दोनों ही पसीने-पसीने हो गए थे.. पर कोई भी रुकने का नाम नहीं ले रहा था।

भाभी मुझे बार बार ललकार रही थीं, ‘चोद लो मेरे राजा चोद लो अपनी भाभी की गाण्ड… आज फाड़ डालो इसे… शाबाश मेरे शेर और ज़ोर से राज्ज्जा और ज़ोर से… फाड़ डाली तुमने मेरी तो…’

मैं भी ‘हुमच-हुमच’ कर शॉट लगा रहा था… पूरा का पूरा लंड बाहर खींच कर झटके से अन्दर डालता तो भाभी की चीख निकल जाती।

मेरा लावा अब निकलने ही वाला था।
उधर भाभी भी अपनी मंज़िल के पास थीं।

तभी मैंने एक झटके से लंड निकाला और भाभी की चूत में जड़ तक ठूँस दिया। भाभी इसके लिए तैयार नहीं थीं.. इसलिए उनकी ऊँगली भी चूत में ही फंसी रह गई थी.. जिससे उनकी चूत बहुत ही टाइट लग रही थी।

मैं भाभी के बदन को पूरी तरह अपनी बाँहों में समेट कर दनादन शॉट लगाने लगा।

भाभी भी अब सम्हल कर ज़ोर-ज़ोर से ‘आह उहह’ करती हुई चूतड़ों को आगे-पीछे करके अपनी चूत में मेरा लंड लेने लगीं।

हम दोनों की सांस फूल रही थी… आखिर मेरा ज्वालामुखी फूट पड़ा और मैं भाभी की पीठ से चिपक कर भाभी की चूत में झड़ गया।

भाभी की भी चूत झड़ने को थी और भाभी भी चीखती हुई झड़ गईं।

हम दोनों उसी तरह से चिपके हुए पलंग पर लेट गए और थकान की वजह से पा ही चला कि कब सो गए।

What did you think of this story??

Click the links to read more stories from the category or similar stories about , , , ,

You may also like these sex stories

Download a PDF Copy of this Story

Comments

Scroll To Top